सोमवार, 2 नवंबर 2009

यहाँ से देखो

यहाँ से देखो
आसमान कितना नीला है
घास कितनी हरी
कितना चटख है फूलों का रंग
कितना साफ़ दिख रहा है
तालाब का पानी
हवा में घुल रही है
कैसी भीनी गंध
नहीं, बंद मत करो
खिरकी के पल्ले
यूँ ही रहने दो उन्हें
आधा खुला
झूलता हवा में

3 टिप्‍पणियां:

Pradeep Kumar ने कहा…

हवा में घुल रही है
कैसी भीनी गंध
नहीं, बंद मत करो
खिरकी के पल्ले
wah ! ek muddat se aasmaan ka neela rang aur hawa ki us saundhi mahak ko taras gaye. aha ! kambakht shahar ki zindagi
har taraf gard-o-gubaar
aadmi to aadmi aasmaan tak ko
apne syaah andhere main sametne ko aatur !
likhti rahiye aisi kavitaayein yaaden taaza kar deti hain.

prabhat ने कहा…

yahan se dekho se bheeni gandh tak hi achchhi hai aur poori bhai.

प्रतुल कहानीवाला ने कहा…

merii ichchhaa bavishya me kabhi aapkii rachnaao kii sameekshaa karoon. mujhe isme sukh hogaa.